Skip to main content

mjunction’s tea e-marketplace at Jorhat to bring in efficient solutions

MoU singing Image_ Mr Vinaya Varma, MD CEO mjunction & Mr Arun Kumar Ray Deputy Chairman Tea Board


Kolkata, June 20, 2019: The new e-marketplace for tea to be set up at Jorhat in Assam by India's largest B2B e-commerce company, mjunction services limited, will use an innovative e-platform to be devised in consultation with the Tea Board, and is expected to score heavily in terms of turnaround time and cost effectiveness.


mjunction has been appointed as the system integrator to design, develop, implement and maintain this e-auction platform. The e-auction system will aid fair and market-driven price discovery. Though Assam provides the highest quantity of the tea in India, it has only one auction centre and thus the whole process of 'production to payment' takes more than a month. mjunction plans to shorten this cycle time with features like automated catalogue management.


As per Tea Board officials, “We are introducing the new platform through mjunction to push the price discovery part. The new system will be in place in three months. It would be handling up to 200 million kg of tea per year.”


According to mjunction MD & CEO MrVinaya Varma, “We have been associated with the tea industry for some time, and our upcoming tea e-marketplace in Jorhat will help us to make a difference to a large cross-section of buyers and sellers in the industry, giving them access to a wide range of services from a single platform.”


The inclusive e-marketplace model is expected to bring on board secondary and tertiary buyers from all over the country, giving them access to the freshest tea, easy to use automated catalogue and faster movement of material.


For the sellers, apart from shorter turnaround time and fair price discovery, this model would provide cost savings through focused sampling, and would ensure proper data analysis for setting the reserve price of tea.


 


Popular posts from this blog

छतरपुर जिला चिकित्सालय को मिलेअत्याधुनिक जांच उपकरण एस्सेल माइनिंग द्वारा सी-आर्म, रक्त जांच एवं अन्य उपकरण दान

 छतरपुर की स्वास्थ्य अधोसंरचना को मजबूत बनाने के ध्येय को आगे बढ़ाते हुए एस्सेल माइनिंग द्वारा शुक्रवार को छतरपुर जिला चिकित्सालय में अत्याधुनिक सी-आर्म इमेजिंग डिवाइस, हाई फ़्लो नैज़ल कैनुला समेत त्वरित रक्त जांच उपकरण एवं मोरचुरी फ्रीजर भेंट किया गया।  जिला कलेक्टर श्री संदीप जी आर ने फीता काटकर नई सुविधाओं का शुभारंभ किया। इस अवसर पर मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ विजय पथोरिया एवं अस्पताल के अन्य अधिकारी-कर्मचारी उपस्थित रहे। नए उपकरणों के साथ छतरपुर जिला चिकित्सालय के सुविधाओं में वृद्धि होने के साथ ही हजारों नागरिकों को नई जाँचों का लाभ मिल सकेगा और त्वरित जांच प्राप्त हो सकेगी।कलेक्टर श्री श्री संदीप जी आर द्वारा इस अवसर पर अस्पताल परिसर में पौधा रोपण भी किया गया।  एस्सेल माइनिंग द्वारा लगातार छतरपुर जिले की स्वास्थ्य सेवाओं को उन्नत बनाने में सतत योगदान दिया जा रहा है। पूर्व में गुरुवार को कंपनी द्वारा बक्सवाहा के सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र को बड़ा मलहरा विधायक श्री प्रद्युम्न सिंह लोधी की उपस्थिति में एडवांस्ड लाइफ सपोर्ट एम्बुलेंस भेंट की गई। वेंटीलेटर जैसी सुविधाओं के सा

*Reusable pads essential to make menstrual hygiene sustainable for all women and girls*

 If every woman and girl of menstruating age in India used disposable pads, 38,500,000,000 used pads would be discarded every month – an environmental disaster since each of these would take 500-800 years to degrade naturally XXX / May 26, 2021: Considering the immense non-biodegradable waste generated by disposable sanitary pads every month, sustainable menstrual hygiene in India can be achieved only with reusable pads made of organic material, said Anju Bist, Co-Director, Amrita SeRVe (Self Reliant Village) Program of Mata Amritanandamayi Math. Known as the “Pad Woman” of India for her zeal in promoting the use and reuse of sanitary pads made of cloth and banana fibre, she is the co-creator of Saukhyam Reusable Pads which have been awarded as the "Most Innovative Product" by the National Institute of Rural Development, Hyderabad. The pads were also lauded at the UN Climate Change Conference held in Poland in 2018. Said Anju Bist: “There are 355 million menstruating women an

कर्नाटका बैंक ने इक्विपमेंट फाइनेंसिंग बिजनेस के लिये जेसीबी इंडिया लिमिटेड के साथ साझेदारी की

 कर्नाटका बैंक ने भारत में अर्थमूविंग एवं कंस्‍ट्रक्‍शन इक्विपमेंट बनाने वाली प्रमुख कंपनी जेसीबी इंडिया लिमिटेड के साथ एक समझौता ज्ञापन (एमओयू) पर हस्‍ताक्षर किये हैं। जेसीबी इंडिया लिमिटेड के साथ किए गए इस गठजोड़ की मदद से बैंक के एमएसएमई पोर्टफोलियो के तहत ऋण की सुविधा बेहतर होगी।   इस एमओयू के अंतर्गत, जेसीबी अपने फाइनेंस पार्टनर के तौर पर कर्नाटका बैंक को नॉमिनेट करेगी। परिणामस्‍वरूप, लोग/ठेकेदार/कंपनी/भागीदार कंपनियाँ/एलएलपी, आदि जेसीबी इंडिया लिमिटेड की उत्‍पाद श्रृंखला से विश्‍व-स्‍तरीय उपकरण खरीदने के लिये बैंक से प्रतिस्‍पर्द्धी ब्‍याज दरों पर लोन ले सकेंगे।    इस एमओयू पर हस्‍ताक्षर करने के बाद, कर्नाटका बैंक के प्रबंध निदेशक एवं सीईओ श्री महाबलेश्‍वरा एम.एस. ने कहा, “हमारा फोकस क्रेडिट विकास पर होने के नाते, बैंक एमएसएमई की फाइनेंसिंग में आगे रहता है। हम जेसीबी के साथ एमओयू पर हस्‍ताक्षर करके सचमुच खुश हैं, क्‍योंकि उत्‍कृष्‍टता, सत्‍यनिष्‍ठा और स्‍थायित्‍वपूर्ण विकास के हमारे मूल्‍य उनसे मिलते-जुलते हैं। हमारा बैंक अपने ग्राहकों को डिजिटल प्‍लेटफॉर्म के माध्‍यम से आकर्षक ब