Skip to main content

अंधविश्वास की त्रासदी में फंसा देश

इससे बड़ी विडंबना और क्या हो सकती है कि जिस दिन विज्ञान की दुनिया में 'चंद्रयान-2Ó के सफल प्रक्षेपण के रूप में देश ने बड़ी उपलब्धि हासिल की, उसी दौरान झारखंड से अंधविश्वास की वजह से चार लोगों को बर्बरता से मार डालने की परेशान करने वाली खबर आई। राज्य में गुमला जिले के सिसकारी गांव में दो महिलाओं सहित चार बुजुर्ग आदिवासियों को लोगों ने इसलिए पीट-पीट कर मार डाला क्योंकि किसी तांत्रिक या ओझा ने उन्हें 'डायनÓ बता दिया। इसके अलावा, पिछले हफ्ते झारखंड के ही गिरिडीह में दो महिलाओं सहित तीन लोगों को मानव मल खाने पर मजबूर किया गया। दोनों ही घटनाओं के सामने आने के बाद पुलिस ने कुछ लोगों को गिरफ्तार किया है। ऐसे मामलों के तूल पकडऩे के बाद इस तरह की कार्रवाइयां पहले भी होती रही हैं। सवाल है कि उनका हासिल क्या है? आमतौर पर ऐसी हर घटना के बाद कानून अपना काम करता है और आरोपियों को गिरफ्तार करके कानूनी प्रक्रिया पूरी की जाती है। मुश्किल यह है कि सोच-समझ व मानसिकता में गहरे पैठी जड़ताओं से जुड़ी इस समस्या की मूल वजहों को दूर करने की कोशिश नहीं की जाती है।


झारखंड में हुई ये घटनाएं कोई नई नहीं हैं। 'डायनÓ होने के अंधविश्वास की वजह से इस तरह किसी को मार डाले जाने या मानव मल खिलाने के मामले अक्सर सामने आते रहे हैं। इस पर काबू पाने के मकसद से सख्त कानूनी प्रावधान भी किए गए, लेकिन आज भी अगर यह अंधविश्वास बदस्तूर कायम है तो यह न केवल कानून लागू करने वाली एजेंसियों की नाकामी भर है, बल्कि इससे यह भी साबित होता है कि विकास की चमकती तस्वीर में सामाजिक जड़ताओं की जंजीरों को तोडऩे के मुद्दे किस तरह दरकिनार हैं। सिसकारी गांव में कुछ लोगों की बीमारी की वजह से मौत हो गई थी। लोगों को लगा कि गांव को किसी की बुरी नजर लग गई है और इस मुद्दे पर बाकायदा एक सभा या पंचायत की बैठक की गई और किसी ओझा से संपर्क किया गया। फिर उसी की सलाह के बाद मामला यहां तक पहुंचा कि गांव वालों ने चार लोगों की पीट-पीट कर हत्या कर दी। गिरिडीह में भी तीन लोगों को मानव मल खिलाने के पीछे ठीक इसी तरह का अंधविश्वास है।


इसमें कोई दो राय नहीं कि इस तरह के अंधविश्वासों के बने रहने के पीछे मुख्य वजह अशिक्षा और गरीबी है। अभाव के बीच अशिक्षा की हालत में लोग इतना भी समझ पाने में सक्षम नहीं होते कि अगर कोई व्यक्ति बीमार है तो उसे डॉक्टर से इलाज कराने की सख्त जरूरत है। कई स्तर पर आधुनिक तकनीकी दूरदराज के इलाके में पहुंच जाती है, बदहाल स्कूलों में कभी किताब की शक्ल में शायद विज्ञान भी पढ़ा दिया जाता हो, लेकिन चेतना के स्तर पर सोच में बदलाव लाने और वैज्ञानिक दृष्टि के विकास की कोशिश नहीं होती। यह बेवजह नहीं है कि न केवल झारखंड या दूरदराज के इलाकों, बल्कि शहरों में भी 'डायनÓ या फिर भूत-प्रेत जैसी अंधविश्वास पर आधारित धारणाएं लोगों के बीच जड़ें जमाए रहती हैं। यह वैज्ञानिक सोच के अभाव का नतीजा है कि स्थानीय स्तर पर ओझा-तांत्रिकों का जाल फैला हुआ है और अंधविश्वास समाज के कमजोर तबकों के लिए त्रासदी साबित हो रहा है। सवाल है कि लंबे समय से गंभीर समस्या के रूप में कायम रहने के बावजूद सरकार को इस पर काबू पाने के लिए ठोस व कुछ साहसपूर्ण कदम उठाने की जरूरत क्या इसलिए महसूस नहीं होती कि इन अंधविश्वासों की मार सहने और मरने वाले लोग समाज के बेहद कमजोर तबके से आते हैं?


याद होगा कि महिलाओं के चोटी काटने की अफवाह राजस्थान, हरियाणा और दिल्ली से फैलकर अन्य राज्यों के सुदूर इलाकों तक पहुंच गई थी और इस अफवाह की वजह से झारखंड में एक महिला की पीट-पीट कर हत्या कर दी गई। देखा जाए तो इंसान का दिमाग एक विचित्र-सी चीज है। हम जो कुछ भी देखते-समझते हैं, इसमें काफी सारे पेच होते हैं, जो देखने-समझने से जुड़े आचरण का निर्माण करते हैं। हमारे दिमाग में अंधविश्वासों का पुलिंदा भरा हुआ है। यही वजह है कि आज विज्ञान का युग होने के बावजूद भी हमारे समाज में अंधविश्वास हावी है। साल-दो-साल या फिर पांच-दस साल में अजीब सी कोई चीज या घटना आ ही जाती है, जो हमारे जनमानस के अंधविश्वास को बढ़ावा देती है। कभी मुंहनोचवा तो कभी चोटीकटवा की घटनाएं उसी अंधविश्वास का ही परिणाम हैं। इन सबके पीछे गहरे स्तर पर सामाजिक परिस्थितियां क्या होती हैं, इसके लिए राजनीतिक परिस्थितियां कितनी जिम्मेदार हैं, अंधविश्वास का अस्तित्व क्या है, इसमें किसी व्यक्ति या समूह की कितनी शरारत है, इन सब पर एक अध्ययन की जरूरत है, क्योंकि ऐसी घटनाओं के होने के ठोस कारणों के बारे में कुछ कह पाना उचित नहीं होगा। 
हम आज विज्ञान और तकनीक के मामले में तरक्की के रास्ते पर हैं। विज्ञान ने बहुत से गंभीर रहस्यों को खोज निकाला है, फिर भी समाज में अंधविश्वास हावी दिखता है। इसकी वजह भी यही है कि हम वैज्ञानिक तरीके से पढ़ाई नहीं कर पा रहे हैं। इसमें हमारी शिक्षा व्यवस्था और समाज की खामी है कि वह अपने बच्चों को वैज्ञानिक शिक्षा नहीं दे पा रहे हैं। हम विज्ञान और तकनीक की चकाचौंध को स्वीकार तो करते हैं, लेकिन खुद वैज्ञानिक तरीके से अपनी जिंदगी नहीं गुजारते। वैज्ञानिकता का हमारा स्तर बढ़ नहीं पाता है। यही वजह है कि कभी-कभार हमारे समाज में चोटीकटवा जैसी घटनाएं समाज की दशा और दिशा को प्रभावित करने लगती हैं। फिर चाहे जमीन में गड़ी मूर्ति अचानक प्रकट हो जाती है या फिर अचानक किसी और जगह मूर्ति पैदा हो जाती है। उसके बाद तो वहां धीरे-धीरे चबूतरा बन जाता है, जो आगे चलकर देवस्थान का रूप धारण कर लेता है। इसी बीच समाज की कुछ शक्तियां इसे बाजार में परिवर्तित कर देती हैं और लोगों की भोली-भाली संवेदनाओं से खेलने लगती हैं। जहां तक इसको बढ़ाने में धर्म और आस्था का हाथ होने का सवाल है, तो धर्म की आड़ में अंधविश्वास को फैलाने में काफी मदद मिलती है। 


चूंकि धर्म और आस्था पर सवाल नहीं उठाया जा सकता और न ही उसका विरोध किया जा सकता है, इसीलिए धर्म की आड़ में अंधविश्वास को बढ़ावा मिलने लगता है। हमारे समाज में ऐसी स्थिति न पनपने पाए, इसके लिए बेहद जरूरी है कि शिक्षा व्यवस्था को वैज्ञानिक पद्धति वाला बनाया जाए, ताकि लोग अपने जीवन में वैज्ञानिक आचरण करने लगें। सिर्फ वैज्ञानिक आचरण ही अंधविश्वास को खत्म कर सकता है। हमारे संविधान में यह दर्ज है कि हम वैज्ञानिक दृष्टिकोण को अपनाएं। इसलिए जरूरी है कि अपने कर्तव्यों का वैज्ञानिक आचरण के साथ पालन करें। जब ऐसा संभव नहीं हो पाता है, तभी हम भ्रम में आकर अंधविश्वासों पर यकीन करने लग जाते हैं और अंधविश्वासों के बाजार का शिकार हो जाते हैं। अंधविश्वासों को दूर करना है, तो शिक्षा व्यवस्था को वैज्ञानिक शिक्षा के रास्ते आगे बढ़ाना होगा।


लेखक- सिद्धार्थ शंकर


Popular posts from this blog

छतरपुर जिला चिकित्सालय को मिलेअत्याधुनिक जांच उपकरण एस्सेल माइनिंग द्वारा सी-आर्म, रक्त जांच एवं अन्य उपकरण दान

 छतरपुर की स्वास्थ्य अधोसंरचना को मजबूत बनाने के ध्येय को आगे बढ़ाते हुए एस्सेल माइनिंग द्वारा शुक्रवार को छतरपुर जिला चिकित्सालय में अत्याधुनिक सी-आर्म इमेजिंग डिवाइस, हाई फ़्लो नैज़ल कैनुला समेत त्वरित रक्त जांच उपकरण एवं मोरचुरी फ्रीजर भेंट किया गया।  जिला कलेक्टर श्री संदीप जी आर ने फीता काटकर नई सुविधाओं का शुभारंभ किया। इस अवसर पर मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ विजय पथोरिया एवं अस्पताल के अन्य अधिकारी-कर्मचारी उपस्थित रहे। नए उपकरणों के साथ छतरपुर जिला चिकित्सालय के सुविधाओं में वृद्धि होने के साथ ही हजारों नागरिकों को नई जाँचों का लाभ मिल सकेगा और त्वरित जांच प्राप्त हो सकेगी।कलेक्टर श्री श्री संदीप जी आर द्वारा इस अवसर पर अस्पताल परिसर में पौधा रोपण भी किया गया।  एस्सेल माइनिंग द्वारा लगातार छतरपुर जिले की स्वास्थ्य सेवाओं को उन्नत बनाने में सतत योगदान दिया जा रहा है। पूर्व में गुरुवार को कंपनी द्वारा बक्सवाहा के सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र को बड़ा मलहरा विधायक श्री प्रद्युम्न सिंह लोधी की उपस्थिति में एडवांस्ड लाइफ सपोर्ट एम्बुलेंस भेंट की गई। वेंटीलेटर जैसी सुविधाओं के सा

*GLENEAGLES GLOBAL HEALTH CITY PERFORMS WORLD’S SECOND SUCCESSFUL PEDIATRIC COMBINED LIVING DONOR LIVER AND KIDNEY TRANSPLANT FOR A RARE GENETIC LIVER DISORDER*

 12-year-old boy with rare liver disease undergoes successful multi-organ transplant making him the 2nd case in the world and 1st in the country Chennai, 7th December, 2021: Gleneagles Global Health City (GGHC), a leading multi-organ transplant centre in Asia, successfully performed India’s first live donor liver and kidney transplant on a 12-year-old who was suffering from a rare genetic disorder – Primary Hyperoxaluria type 2. Master Anish*, a 12-year-old, was referred from Bangalore with renal failure and had been on dialysis three times a week. Doctors in Bangalore had diagnosed him with a rare genetic disorder called Primary Hyperoxaluria (PH) type- II, which is a liver condition that results in accumulation of oxalate in the kidneys, heart and bones and other organ systems of the body. As the disease is primarily based in the liver, these patients need combined liver and kidney transplantation for cure which is a major undertaking, especially in a child.  Across the world, there

World Human Rights Day 2021: आज है विश्व मानवाधिकार दिवस, बारीकी से जानें अपने अधिकारआज मानवाधिकार दिवस मनाया जा रहा है. वर्ष 1950 में संयुक्त राष्ट्र ने हर वर्ष 10 दिसंबर को 'विश्व मानवाधिकार दिवस' मनाना तय किया.

 आज विश्व भर में मानवाधिकार दिवस (World Human Rights Day 2021) मनाया जा रहा है. 10 दिसंबर, 1948 को संयुक्त राष्ट्र महासभा ने विश्व मानवाधिकार घोषणा पत्र जारी कर प्रथम बार मानवों के अधिकार के बारे में बात रखी थी. वर्ष 1950 में संयुक्त राष्ट्र ने हर वर्ष 10 दिसंबर को 'विश्व मानवाधिकार दिवस' मनाना तय किया.क्या है 'मानव अधिकार'किसी भी इंसान की जिंदगी, आजादी, बराबरी और सम्मान का अधिकार है मानवाधिकार (World Human Rights Day 2021) है. भारतीय संविधान इस अधिकार की न सिर्फ गारंटी देता है, बल्कि इसे तोड़ने वाले को अदालत सजा देती है. भारत में 28 सितंबर 1993 से मानव अधिकार कानून अमल में आया. 12 अक्‍टूबर, 1993 में सरकार ने राष्ट्रीय मानव अधिकार आयोग का गठन किया. World Human Rights Day २०२१ पर राजनेताओं और दिग्गज नामी हस्तियों ने अपने विचार साँझा किये सोशल मीडिया प्लेटफार्म कू पर स्वाति सिंह, कहती है - एकता,सामाजिक-आर्थिक नवीनीकरण और राष्ट्रनिर्माण!!! प्रत्येक व्यक्ति को जाति,धर्म,लिंग,भाषा,राष्ट्रीयता,नस्ल या किसी अन्य आधार पर भेदभाव किए बिना समानता के साथ जीवन जीने का अधिकार है और #