अमेज़न ने केडीपी पेन टु पब्लिश कॉन्‍टेस्‍ट के तीसरे संस्‍करण की घोषणा की



  • लेखक अमेज़न किंडल डायरेक्ट पब्लिशिंग का प्रयोग कर अपनी पुस्तकें प्रकाशित करके इस प्रतियोगिता में भाग ले सकते हैं

  • इस साल, विजेताओं और रनर्स अप के लिए काफी कुछ है। प्रतियोगिता में भाग लेने वालो को ₹20 लाख रुपये से ज्यादा के नकद पुरस्कार मिलेंगे

  • निर्णायक मंडल में बेस्ट सेलिंग किताबों के लेखक दिव्य प्रकाश दुबे, दुर्जाय दत्ता, सुधा नायर, पीए. राघवन और सी. सारावन कार्तिकेयन शामिल हैं

  • दुनिया भर में सभी छह किंडल लिटररी अवार्ड्स के एक फाइ‍नलिस्‍ट को अपना कार्य अमेज़न प्राइम वीडियो प्रोडक्‍शन में बनते हुए देखने का मौका मिलेगा





सितंबर 2019 : अमेज़न इंडिया ने किंडल डायरेक्ट पब्लिशिंग (केडीपी) पेन टु पब्लिश कॉन्टेस्ट के तीसरे संस्करण की घोषणा की है। यह प्रतियोगिता हिंदी, अंग्रेजी और तमिल में सभी विधाओं के लिए खुली है। प्रतियोगिता में भाग लेने के इच्छुक लेखक अपनी मौलिक लिखित कहानी को जमा कर सकते हैं। उन्‍हें 15 सितंबर 2019 से 14 दिसंबर 2019 तक amazon.in पर किंडल डायरेक्‍ट पब्लिशिंग के माध्‍यम से शॉर्ट-फॉर्मेट (2,000 से 10,000 शब्‍द) या लॉन्‍ग फॉर्मेट (10,000 से अधिक शब्‍द) में अपनी प्रविष्टियां प्रकाशित करनी होंगी। इन प्रविष्टियों को उनकी रचनात्‍मकता, मौलिकता और लेखन की गुणवत्‍ता एवं ग्राहक फीडबैक के आधार पर जज किया जायेगा। जजिंग पैनल में हिंदी प्रविष्टियों के लिए दिव्‍य प्रकाश दुबे, अंग्रेजी प्रविष्टियों के लिए दुर्जाय दत्‍ता और सुधा नायर, और तमिल प्रविष्टियों के लिए पीए.राघवन और सी. सारावन कार्तिकेयन शामिल होंगे।


 


हर भाषा और फॉर्मेट के संयोजन के लिए, पांच फाइनलिस्ट को चुना जाएगा और हर श्रेणी से शीर्ष तीन विजेता चुने जाएंगे। लॉन्‍ग फॉर्मेट श्रेणी के लिए प्रत्‍येक भाषा में विजेता प्रविष्टियों को 5 लाख का नकद पुरस्कार, एक मर्चेंडाइजिंग डील, और मशहूर लेखकों द्वारा मेंटॉर किये जाने का मौका मिलेगा। पहले रनर अप्स को 1 लाख का नकद पुरस्कार मिलेगा। दूसरे रनर अप्स को 50 हजार का नकद पुरस्कार दिया जाएगा। शॉर्ट-फॉर्म श्रेणी में विजेताओं को 50,000 का पुरस्‍कार दिया जायेगा जबकि पहले और दूसरे रनरअप को क्रमश: 25 हजार और 10 हजार का नकद पुरस्कार मिलेगा।


 


कॉन्‍टेस्‍ट के दूसरे संस्‍करण की विजेता नंदिनी कुमार ने कहा, “केडीपी पेन टु पब्लिश कॉन्‍टेस्‍ट हिंदी भाषी लेखकों के लिए एक उत्‍कृष्‍ट मंच है जहां वे अपने कंटेंट को प्रकाशित करा सकते हैं और स्‍व-प्रकाशन में भाषा की बाधा को तोड़ सकते हैं।”


 


अमेज़न में किंडल कंटेंट- इंडिया के डायरेक्‍टर अमोल गुरवारा ने कहा, “भारत में केडीपी पेन टु पब्लिश कॉन्टेस्ट का तीसरा संस्करण इस साल बड़ा और अधिक दिलचस्‍प होने का वादा करता है। भारत कथाकारों की भूमि है और हमें लेखकों को विभिन्‍न भाषाओं में उनके कार्य को प्रदर्शित करने के लिए एक स्‍थान मुहैया कराकर खुशी हो रही है। हमें लगता है कि आज की घोषणा से उन लोगों को प्रेरणा मिलेगी जो कॉन्‍टेस्‍ट में भागीदारी करने से कतरा रहे थे।”  


 


इसके अतिरिक्त, एक किताब चुनने के लिए इस साल दुनिया भर में सभी छह किंडल लिटररी अवार्ड्स में लॉन्‍ग फॉर्मेट कैटेगरी के फाइनलिस्‍ट एवं विजेता शीर्षकों का मूल्‍यांकन अमेज़न प्राइम वीडियो के एक्‍जीक्‍यूटिव्‍स के पैनल द्वारा किया जाएगा। वे रचनात्‍मकता, ओरिजनैलिटी और कहानी कहने की बोल्‍डनेस तथा स्‍थानीय क्षेत्र के लिए सांस्‍कृतिक पहलुओं की प्रासंगिकता के आधार पर इस किताब का आकलन करेंगे। विजेता को ₹7 लाख के अग्रिम भुगतान के साथ, स्‍क्रीनप्‍ले खरीदने हेतु अमेज़न स्‍टूडियोज के लिए विशिष्‍ट, 36 महीने का विकल्‍प प्रदान किया जाएगा।


 


जेम्‍स फैरेल, अमेज़न स्‍टूडियोज के इंटरनेशनल ओरिजनल्‍स के हेड ने कहा,  “हम अमेज़न स्‍टूडियोज, किंडल डायरेक्‍ट पब्लिशिंग और दुनिया भर के लेखकों के बीच इस साझेदारी से खुश हैं। हम अपने प्राइम वीडियो ग्राहकों के लिए समूचे विश्‍व से ओरिजनल कंटेंट की निरंतर तलाश कर रहे हैं और अगला बड़ा आइडिया एवं वास्‍तव में अनूठा नजरिया कहीं से भी आ सकता है। किंडल और पहले से सफल केडीपी लेखन प्रतियोगिताओं के जरिए ग्राहकों द्वारा मूल्‍यांकन की गई शानदार किताबों की सूची बनाना, और उनमें से एक को सीरीज या मूवी के तौर पर विकसित करने में सक्षम होना अद्भुत होगा।”  


 


प्रतिभागियों को amazon.in पर अपनी किताब स्‍व-प्रकाशित करने के लिये kdp.amazon.com पर लॉग ऑन करना होगा और अपनी किताब को केडीपी सेलेक्‍ट प्रोग्राम में एन्‍रोल कराना होगा। कॉन्‍टेस्‍ट के लिये आई सभी ई-बुक्‍स आइफोन, आइपैड, एंड्रॉयड फोन्‍स और टैबलेट्स, पीसी एवं मैक- के लिए फ्री किंडल एप्‍प तथा किंडल ई-रीडर्स के रूप में उपलब्‍ध होंगी। अधिक जानकारी के लिये लेखक www.amazon.in/pentopublish पर लॉग ऑन कर सकते हैं।


 


केडीपी लेखकों के लिये अपनी किताबों को डिजिटल फॉर्मेट में दुनिया भर के पाठकों के लिये स्‍व-प्रकाशित करने की एक तेज, नि:शुल्‍क और सरल सेवा है। लेखकों की ईबुक्‍स की बिक्री पर उन्‍हें 70% तक रॉयल्‍टीज भी दी जाती है। वर्तमान में, इंडिया किंडल स्‍टोर पर टॉप 100 किताबों में से लगभग 10% किताबों को केडीपी के माध्‍यम से स्‍व-प्रकाशित किया गया है।


 


अधिक जानकारी के लिए देखें  - kdp.amazon.com


 


Amazon.in के विषय में:


Amazon.in मार्केटप्लेस का परिचालन अमेज़न सेलर सर्विसेज प्राइवेट लिमिटेड, Amazon.com, Inc. (NASDAQ: AMZN)  के संबद्ध, द्वारा किया जाता है। Amazon.in ग्राहकों के लिए सबसे ग्राहक-केन्द्रित ऑनलाइन गंतव्य के निर्माण के लिए तत्पर है, जहां वे आभासी तौर पर अपनी पसंद की कोई भी चीज ऑनलाइन ढूंढ सकें। हम उन्हें हर वो चीज प्रदान करते हैं जिसकी वे चाहत रखते हैं - व्यापक सेलेक्शन, कम कीमतें, तेज एवं भरोसेमंद डिलीवरी, भरोसेमंद एवं सुविधाजनक अनुभव; और विक्रेताओं को विश्वस्तरीय ई-कॉमर्स प्‍लेटफॉर्म उपलब्ध कराते हैं।


 


अधिक जानकारी के लिए देखें www.amazon.in/aboutus


अमेज़न न्‍यूजरूम  से जुड़ें : Twitter | Facebook


 


अमेज़न के विषय में:


अमेज़न चार सिद्धान्तों द्वारा मार्गदर्शित है: प्रतिस्पर्धी फोकस के बजाय ग्राहकों का लगाव, नवाचार के लिए जुनून, परिचालनीय उत्कृष्टता के लिए प्रतिबद्धता और दीर्घकालिक सोच। कस्टमर रिव्यूज, 1-क्लिक शॉपिंग, पर्सनलाइज्ड रिकमन्डेशंस, प्राइम, फुलफिलमेंट बाइ अमेज़न, एडब्लूएस, किंडल डायरेक्ट पब्लिशिंग, किंडल, फायर टैबलेट्स, फायर टीवी, अमेज़न इको, और एलेक्सा अमेज़न के कुछ महत्वपूर्ण उत्पाद एवं सेवायें हैं। अधिक जानकारी के लिए देखें: amazon.com/about और फॉलो करें: @AmazonNews.





Popular posts from this blog

Trending Punjabi song among users" COKA" : Sukh-E Muzical Doctorz | Alankrita Sahai | Jaani | Arvindr Khaira | Latest Punjabi Song 2019

*Aakash Institute Student Akanksha Singh from Kushinagar (UP) Secures AIR 2nd Nationally in the NEET 2020 Examination; Scores Highest ever marks in NEET’s history, Top Score at National Level, Becomes Inspiration for many Girls in Purvanchal*

*Amrita Vishwa Vidyapeetham First Indian University to Partner with EU’s Human Brain Project*