सिप्ला ने कोविड-19 के विरुद्ध लड़ाई में इंदौर और धार को दिया अपना सहयोगl


रोग को फैलने से रोकने के लिए सरकार एवं  स्थानीय प्रशासन द्वारा किए जा रहे प्रयासों का समर्थन किया


 


·         इंदौर स्थित अपनी फैसिलिटी में सुरक्षा के उपाय किये, ताकि कर्मचारियों, वेंडर्स और ठेका कर्मियों की सेहत सुनिश्चित हो


 


·         फ्रंटलाइन हेल्थकेयर वर्कर्स को सुरक्षा उपकरणों की आपूर्ति कर सुरक्षित किया और प्रभावित समुदायों को जरूरी वस्तुएं दीं


 


इंदौर ,भारत; मई, 2020: सिप्ला लिमिटेड (BSE: 500087; NSE: CIPLA EQ;  और एतद्द्वारा ‘‘सिप्ला’’) ने आज उन कई पहलों की घोषणा की है, जो उसने इंदौर और धार में कोविड-19 महामारी से निपटने के लिये की हैं। कंपनी ने हाल ही में 25 करोड़ रुपये का ‘केयरिंग फॉर लाइफ’ कोविड-19 समर्पित फंड लॉन्च किया था, ताकि उन कई तात्कालिक और लंबी अवधि के राहत कार्यों को आगे बढ़ाया जा सके, जिनकी जरूरत इस संकट से उबरने के लिए देश को है।


 


इंदौर और धार में कंपनी सरकार के कोविड-19 प्रबंधन प्रयासों को आगे बढ़ाने के लिये स्थानीय प्रशासन के साथ काम कर रही है। सिप्ला के प्रयास मुख्य रूप से उसके कर्मचारियों, वेंडर्स, ठेका कर्मियों, फ्रंटलाइन एडमिनिस्ट्रेशन, स्वास्थ्यरक्षा कर्मियों और बुनियादी जरूरतों तक कम पहुंच रखने वाले वंचित समुदायों की सुरक्षा और सेहत पर लक्षित हैं।


 


कर्मचारियों की देखभाल


 


सिप्ला इंदौर में काम करने वाले कर्मचारी मरीजों के हित के लिए काम कर रहे हैं। सिप्ला इंदौर ने सोशल डिस्‍टेंसिंग और संक्रमण नियंत्रण के लिए सरकार द्वारा निर्धारित नियमों को लागू करने के लिए एक विशेष कोविड-19 कार्यबल का गठन किया है। काफी संख्‍या में स्टाफ मेंबर्स कंपनी द्वारा मुहैया कराए गए आवास में रह रहे हैं और अपने परिवारों से दूर हैं ताकि संक्रमण के जोखिम को दूर किया जा सके। परिसर में प्रवेश करने वाले प्रत्येक व्यक्ति की रोज स्क्रीनिंग की जा रही है और किसी भी तरह का लक्षण दिखने पर उसे घर भेज दिया जाता है और सेल्‍फ-क्‍वारंटाइन होने का अनुरोध किया जाता है। सतह के संपर्क से बचने के लिए आरएफआईडी स्मार्ट कार्ड के माध्यम से अटेंडेंस दर्ज की जाती है। सभी कर्मचारियों की व्यक्तिगत सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए सैनिटाइजर्स, मास्क, ग्‍लव्‍स और सुरक्षा चश्मे दिए जाते हैं। कंपनी सुविधा परिसर, कर्मचारी परिवहन वाहनों और गुड्स कैरियर्स की लगातार स्वच्छता का कार्य कर रही है। गर्भवती महिलाओं, क्रेच सुविधा लेने वाली माताओं और संदिग्‍ध कर्मचारियों को घर से काम करने की सलाह दी गई है। फैसिलिटी के भीतर और यात्रा के दौरान भी कर्मचारियों के बीच एक अनिवार्य 1.5 मीटर की दूरी का पालन किया जा रहा है। व्यक्तिगत रूप से टीम की बैठकों को अस्थायी रूप से बंद कर दिया गया है और उनकी जगह वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग कराई जा रही है। इसके अतिरिक्त, इस बीमारी को नष्ट करने और यह सुनिश्चित करने के लिए कि कर्मचारियों ने किसी भी लक्षण या सकारात्मक मामलों की तुरंत रिपोर्ट की है या वे या उनके परिवार के सदस्य संपर्क में आए हैं, इस बारे में एक व्यापक जागरूकता अभियान शुरू किया गया है। सुरक्षा प्रोटोकॉल के अलावा, कंपनी ने अन्य विशेष उपाय भी पेश किए हैं। इसमें कारखाना परिसर में ठेका कर्मियों को मुफ्त भोजन देने का प्रावधान शामिल है। सिप्ला ने कॉन्ट्रैक्चुअल वर्कफोर्स के लिए एक विशेष कोविड-19 मेडिकल इंश्योरेंस पॉलिसी की सुविधा भी प्रदान की है, जिसमें व्यक्तिगत रूप से 25,000 रुपये की कवरेज के साथ स्वयं और परिवार के सदस्य (पति / पत्नी और दो बच्चे) शामिल हैं।


 


रोगियों की देखभाल


सभी चुनौतियों के बावजूद, सिप्ला इंदौर व्यवसाय की निरंतरता सुनिश्चित कर रहा है, ताकि इस कठिन समय में रोगियों के लिये जरूरी दवाओं का उत्पादन और वितरण जारी रहे। कंपनी ने फार्मेसीज और स्वास्थ्यरक्षा संस्थानों से विभिन्न उपचारों के लिये जरूरी दवाएं प्राप्त करने में रोगियों की मदद के लिये एक टोल-फ्री हेल्पलाइन भी लॉन्च की है।


 


फ्रंटलाइन वर्कर्स की देखभाल


 


सिप्ला स्थानीय अधिकारियों के साथ मिलकर काम कर रहा है, ताकि उनकी त्‍वरित जरूरतों की पहचान की जा सके और अपेक्षित सहायता मिल सके। इसके लिए, यह सरकारी प्रशासन, पुलिस और स्वास्थ्य सेवा पारिस्थितिकी तंत्र के भीतर विभिन्न हितधारकों को व्यक्तिगत सुरक्षा उपकरण (पीपीई) और सुरक्षा गियर की आपूर्ति कर रहा है। कंपनी ने धार में कलेक्टर कार्यालय को 5 इन्फ्रारेड थर्मामीटर का वितरण किया, और पुलिस को 5,000 मास्क बांटे। इसके अतिरिक्त, धार में जिला प्रशासन को 250 पीपीई किट और 250 N95 मास्क सौंपे गए हैं।


 


समुदाय की देखभाल


समुदाय के प्रति अपनी जिम्मेदारी को आगे बढ़ाते हुए सिप्ला अपनी फैसिलिटीज के आस-पास रहने वाले लोगों को भोजन के पैकेट, सैनिटाइजर्स, मास्क और दस्ताने जैसी जरूरी चीजें प्रदान कर रहा है। इस प्रयास के हिस्से के तौर पर जरूरतमंद लोगों को कुल 5550 पैकेट भोजन वितरित किया जा चुका है और यह काम अब भी जारी है। वस्तुओं के परिवहन से जुड़े लंबी दूरी के ट्रक चालकों को सूखे राशन के पैकेट प्रदान किये जा रहे हैं।


 


सिप्ला के विषय में


वर्ष 1935 में संस्थापि, सिप्ला एक वैश्विक फार्मास्युटिकल कंपनी है, जो भारत, दक्षिण अफ्रीका, उत्तरी अमेरिका में अपने घरेलू बाजारों और विनियमन वाले तथा उभरते बाजारों में चुस्त और स्थायी वृद्धि, कॉम्पलेक्स जेनेरिक्स और पोर्टफोलियो की मजबूती पर केन्द्रित है। रेस्पिरेटरी, एंटी-रेट्रोवाइरल, यूरोलॉजी, कार्डियोलॉजी, एंटी-इंफेक्टिव और सीएनएस सेगमेन्ट्स में हमारी दक्षता विख्यात है। विश्व में हमारे 46 उत्पादन स्थल 50 से अधिक डोजेज फॉर्म्स और 1500 से अधिक उत्पादों का उत्पादन अत्याधुनिक प्रौद्योगिकी से करते हैं, जिससे हमारे 80 से अधिक बाजार लाभान्वित होते हैं। सिप्ला भारत का तीसरा सबसे बड़ा फार्मा (आईक्यूवीआईए एमएटी मार्च 2020), दक्षिण अफ्रीका के फार्मा प्राइवेट मार्केट में तीसरा सबसे बड़ा (आईक्यूवीआईए एमएटी मार्च 2020) और अमेरिका की सबसे बड़ी जेनेरिक दवा कंपनियों में से एक है। विगत आठ दशकों से सिप्ला रोगियों के जीवन में सकारात्मक बदलाव कर रहा है। वर्ष 2001 में हमने अफ्रीका में एक डॉलर से कम प्रतिदिन में एचआईवी/एड्स की ट्रिपल एंटी-रेट्रोवाइरल थेरैपी प्रस्तुत की थी, जिससे एचआईवी मूवमेंट में समावेश, पहुँच और वहन करने की योग्यता को बल मिला। सिप्ला एक जिम्मेदार कॉर्पोरेट नागरिक है और स्वास्थरक्षा के क्षेत्र में उसका मानवतावादी दृष्टिकोण ‘केयरिंग फॉर लाइफ’ उक्ति पर आधारित है, अपने कार्यस्थलों के आस-पास मौजूद समुदायों के साथ इसके प्रगाढ़ संबंध हैं और यह वैश्विक स्वास्थ्य निकायों, समकक्षों तथा साझीदारों का पसंदीदा भागीदार है। अधिक जानकारी के लिये कृपया www.ciplalimited.com देखें या Twitter, Facebook, LinkedIn पर क्लिक करें।


Popular posts from this blog

सोनी सब के ‘काटेलाल एंड संस' में क्या गरिमा और सुशीला की सच्चाई धर्मपाल के सामने आ जाएगी

*Amrita Vishwa Vidyapeetham First Indian University to Partner with EU’s Human Brain Project*

*Meritnation registers impressive growth among Premium Users during lockdown; Clocks Four-Fold growth in Live Class Usage*