कारवां काराओके के साथ अब उठाईये गाना गाने का आनंद

 ~ सारेगामा ने इनबिल्टय स्क्री न के साथ कारवां का उच्च स्तरीय संस्करण लॉन्चई किया ~


दिसंबरः चाहे आप लता मंगेशकर के पुराने रेट्रो क्लासिक सुनें या बेस्ट ऑफ मोहम्मद रफी के मजे लें, पुरानी काराओके शाम से बेहतर आपके भीतर के गायक को कोई बाहर नहीं ला सकता। नई टेक्नोलॉजी को अपनाकर और 100 वर्षों की विरासत के साथ, सारेगामा ने कारवां काराओके प्रस्तुत कर एक और मनोरंजक और भागीदारीपूर्ण उत्पाद अनुभव की पेशकश की है। कारवां काराओके की पेशकश इनबिल्ट स्क्रीन के की गई है, जिस पर गाने के बोल नजर आते हैं। इसके लिये किसी बाहरी सेट-अप की जरूरत नहीं पड़ती है और इसे सिर्फ प्लग लगाकर आसानी से चलाया जा सकता है। 



कारवां काराओके 1000 प्री-लोडेड काराओके गीतों, 5000 सदाबहार हिन्दी गानों और 280 से ज्यादा म्यूजिक और नॉन-म्यूजिक आधारित पॉडकास्ट्स के साथ आता है, ताकि परिवार के हर सदस्य की फरमाइश पूरी हो सके। यह अन्य फंक्शंस, जैसे एफएम/एएम/बीटी/ऑक्स, आउट और एचडीएमआई कनेक्टिविटी को भी सपोर्ट करता है। इसमें इको कंट्रोल के साथ दो माइक आते हैं। अगर कोई चाहे, तो गीत के बोल को एचडीएमआई के माध्यम से टीवी या प्रोजेक्टर पर प्रोजेक्ट किया जा सकता है। यह उत्पाद बिलकुल सही समय पर आया है, क्योंकि लोग अब भी महामारी के कारण घरों में ही हैं और पार्टी से दूर हैं। कारवां काराओके त्यौहारों के इस सीजन में हाउस पार्टीज के लिये उपयुक्त है। 


इसे चलाना बहुत आसान है, यह पोर्टेबल है और रिच मेटलिक रेड कलर इसके लुक को बेहतरीन बनाता है। 


इस नये लॉन्च पर सारेगामा इंडिया के मैनेजिंग डायरेक्टर श्री विक्रम मेहरा ने कहा, ‘‘कारवां काराओके रेट्रो संगीत के सभी प्रेमियों के लिये एक संपूर्ण समाधान है। न केवल सदाबहार गीतों को सुनना, बल्कि उन्हें अपने घर में परिवार और दोस्तों के साथ गाना भी एक अनमोल अनुभव है।’’


कारवां काराओके का मूल्य 19990 रूपये है और यह saregama.com, amazon.in और फ्लिपकार्ट पर उपलब्ध है। 

 

सारेगामा इंडिया के विषय में:

पूर्व में द ग्रामोफोन कंपनी ऑफ इंडिया लिमिटेड के रूप में जाना जाने वाला सारेगामा भारत में सबसे बड़े संगीत संग्रह का मालिक है। साथ ही यह दुनिया के सबसे बड़े संगीत संग्रहकर्ताओं में भी शामिल है। भारत में अब तक रिकॉर्ड किए गए संगीत का लगभग 50% संगीत का मालिकाना हक सारेगामा के पास है। यह सारेगामा को देश की संगीत विरासत का सबसे आधिकारिक भंडार बनाता है। सारेगामा ने मनोरंजन की दूसरी शाखाओं में भी विस्ताडर किया है- जिसमें पब्लिशिंग शामिल है।

Popular posts from this blog

सोनी सब के ‘काटेलाल एंड संस' में क्या गरिमा और सुशीला की सच्चाई धर्मपाल के सामने आ जाएगी

*Amrita Vishwa Vidyapeetham First Indian University to Partner with EU’s Human Brain Project*

*Meritnation registers impressive growth among Premium Users during lockdown; Clocks Four-Fold growth in Live Class Usage*